Sign In

Tuesday, June 26, 2012

ADBHUT VAA DURLABH "PAARAD PAARAS GUTIKA" RAHASYA







Kaansosmitaam Harinayprakaraamaadraam jwalanteem Treepta Tarpyanteem |
Padme Sthithaam Padmvarnaam Tamihopahve Shreeyam ||
“He Kundalini, you are the power of soul and praan and you always irrigate from fire like vibrant nectar flowing from that thousand petal lotus. Your activation leads to experience of electrifying splendor and all the chakras get enlightened. Then the Amrit flowing from thousand petals gets more intense and gives satisfaction to satisfaction itself. You are situated in lotus petal with the colour of lotus and your activation instills divinity in this dirty body and activates the other present lotuses and combines them with shree element. We repeatedly pray to you.
There is no such element present in universe whose power and positive energy can’t be imbibed by parad. The most important reason behind it is that it is living liquid of that almighty which is known by us by the name of Aadya Shiva. If they are the base for the birth of universe, then they are also reason for its end. He only is the master of all activities starting from construction to destruction. Construction and then its rhythm, how both these activities can be done, secret of it is embedded in one and only SadaShiv.
When we want to know how is that supreme god by whose dreaming only, universe gets controlled……Then the only answer is that…..
“Raso Vai Sah “
This is the truth only that he is in the form of Ras. Whose liquidity can destroy the ego of any obstacle with in a moment. In the form of life-liquid, it gives strength to construction and maintenance and then the toxicity of harmony combined with destruction absorbs universe in that reason which was responsible for its birth. It can’t be destroyed, can’t be washed, can’t be burnt, and can’t be divided……Because it is always related to that reason.
Therefore significance of Parad has been accepted by all the sects.There is no such religion who has not respected it and where its qualities are not adopted. Somewhere it has been called Aatma, somewhere Ruh, somewhere life-liquid and somewhere Seemav. Such number of scriptures is not written on any god or goddesses which are written only on Parad in all the languages of world by all the religion and all the sects.If I talk about me, I have the collection of more than 5000 scriptures...out of which most of them are obsolete. And all these, I have got due to blessing and guidance of my Praanadhar.
If Ras Vigyan is considered as last Tantra, then it is not an exaggeration. There is no such activity related to universe which is not carried out by Ras. May it be construction, maintenance or destruction. Secrets of this science have been written in various tantra scriptures and slokas in coded language. What is required is that one should understand these secrets and imbibe them and thereafter attain completeness. Very frequently we see how we see the glimpses of Lord Shiva or how we attain success through the medium of Ras Vigyan. Answer to it is very simple. We all know that lord Shiva is called Bhole Nath meaning who is capable of giving everything very easily. This description also applies to parad. Only one rule we have to keep in mind for these two things.
While praising Shiva, one mantra is used –
Namah Shambhvaay Ch | Namah Mayobhavaay Ch |Namah Shankaraay Ch |Mayaskaraay Ch….
Have you ever understood its essence???
It means that I i.e. completeness can be found only when Sadhak Shambhvaay i.e is stable in every circumstances….faces even-odd situations in similar way, accept the poison and nectar in similar manner then only Mayobhavaay i.e. he can attain me or that knowledge.
Though the process to attain complete Shiva element is hidden in above mantra but revealing it is not our aim here.Through the various sanskars of Parad, Parad is combined with various herbs, metals, elements, gems and passed through various states…..cold, heat, light, hard and as a result after each sanskars, there is successive addition in power and capability of Parad, whose appropriate utilization can fulfill our desires.
It is not that construction of gutika by binding parad is done in higher sanskars of Parad. Rather, its power increases from the first sanskar itself. And if the gutika of starting sanskars is constructed and tantra prayogs are done on it then results are amazing.
One such Gutika was described in the January- February edition of Mantra Tantra Yantra Vigyan of 1987 which is known by yogis and Ras siddhs by the name of “Parad Paaras Gutika”.If its construction is done with complete Tantrokt Vidhaan, then this gutika can bring about revolution in Tantra world….The important fact is that to get various benefits from this gutika, you have to do sadhna. This is not a normal gutika rather parad is purified through special sequence and its construction is done with full consciousness using complete authentic tantra Padhati , then only complete power of Parad is manifested.
Normal Parad Gutikas should not be considered Parad Paaras Gutika. Here Parad should be considered Parad only not lead, zinc or tin .Use of impure Parad can cause harm also.
Sadgurudev in this special edition has mentioned various prayogs on that gutika and he himself made these gutikas and gave it to sadhaks and disciples. Every prayog in itself is amazing if it is done with completeness. After that time, this gutika has remained unavailable and nobody has been able to make it available. Now we have made them in few numbers. There are such 108 prayogs which can be done on this gutika. All these prayogs are very simple and easy and do not need any special sadhna article except rosary. And all these prayogs can be done on this gutika according to one’s own capability. It is not immersed and after one prayog, other prayogs are also done on it.As compared to other gutikas, making price of it is very less.
Like:-
Dhanda Yakshini Sadhna Prayog :For completely accomplishing Dhanda Yakshini for the financial gain.
Santaan Praapti Prayog (to get child)
Chakra Jaagran Prayog
Aatmbal Prapti Prayog (For attaining self-confidence)
Pourash Prapti Prayog (For attaining manhood)
For getting material out of the vaccum
For Adrishya Kaarini Vidya Siddhi
For Vaayu Gaman Siddhi (For travelling in air)
For getting incomparable power
For Vashikaran and Sammohan power
For Aatma Aavahan Siddhi (calling souls)
For Para Vigyan Siddhi
Aim Beej Siddhi Prayog
Aghor Vivah Baadha Nivarak prayog
Names given above are such prayogs and mantra and process of all prayogs are different and capable of providing success. If sadhak do complete hard-work then he should attain this gutika and fully utilize it.He can definitely take full benefits from this Vidya.

====================================
कांसोस्मितां हिरण्यप्रकारामार्द्राम् ज्वलन्तीं तृप्ता तर्प्यन्तिम् |

पद्मे स्थितां पद्मवर्णाम् तामिहोपह्वे श्रियम् ||

“हे कुण्डलिनी,तुम आत्मशक्ति स्वरूपा और प्राण हो और उस सहस्रदल कमल से झरते हुए अग्नि समान दैदीप्यमान अमृत के सिंचन से सदैव आर्द्र अर्थात सिंचित रहने वाली हो, तुम्हारी जागृति से जिस विद्युत आभा का अनुभव होता है और सम्पूर्ण चक्र झंकृत होकर मानो दामिनी तुल्य प्रकाश मान हो जाते हैं, तब तुम्हारे सहस्र दलों से टपकते अमृत का प्रवाह और तीव्र होकर तृप्ति को भी तृप्तता प्रदान करता है | तुम कमल दल में स्वयं कमल के रंग की होकर स्थित हो और तुम्हारी जागृति इस मलिन देह को भी दिव्यता प्रदान करती हुयी इसमें उपस्थित विभिन्न कमलों को चैतन्य कर श्रीयुक्त कर देती है | तुम्हे मेरा बारम्बार नमन है |”

  ब्रह्माण्ड में उपस्थित ऐसा कोई तत्व नहीं है,जिसकी ओजशक्ति और धनात्मक ऊर्जा को पारद आत्मसात नहीं कर सकता है | इसका सबसे महत्वपूर्ण कारण ये है की ये स्वयं उस परमेश्वर का जीवन्द्रव्य है,जिसे हम आद्यशिव के नाम से जानते हैं | सृष्टि की उत्पत्ति का यदि वे आधार हैं तो उसके अंत का कारण भी|सृजन से लेकर संहार तक की सम्पूर्ण क्रिया के वे एक मात्र स्वामी है | सृजन और फिर उसका लय, ये दोनों ही क्रिया कैसे की जा सकती है,इसके रहस्य को स्वयं में समेटे एक मात्र सदाशिव |

  जब हम जानना चाहते हैं की कैसा है वो परमेश्वर,जिसके स्वप्न मात्र से इस सृष्टि का सञ्चालन होता है...... तब उत्तर मात्र यही तो होता है की .......

“रसो वै सः”

हाँ सत्य ही तो है वो मात्र रस रूप ही तो होता है | जिसकी द्रव्यता किसी भी बाधा के अहंकार को पल भर में नष्ट कर सकती है | जीवन द्रव्य के रूप में जिससे सृजन और पालन का बल मिलता है और फिर लयसंहारयोग की विषाक्तता सृष्टि को उसी कारण में विलीन कर देती है.जहाँ से उसका आगमन हुआ था | इसे नष्ट नहीं किया जा सकता है,भिगोया नहीं जा सकता है,जलाया नहीं जा सकता है, ना ही विभक्त किया जा सकता है....क्यूंकि ये सदैव सदैव उसी कारण से संबद्ध होता है |

हाँ इसलिए पारद की महत्ता सभी संप्रदायों ने स्वीकारी है,संसार का ऐसा कोई धर्म नहीं है,जहाँ इन्हें सम्मान ना मिला हो,जहाँ इन के गुणों को अपनाया ना गया हो | कहीं इन्हें आत्मा कहा गया है,तो कही रूह,कही जीवन द्रव्य तो कहीं सीमाव | इतने ग्रन्थ किसी देवी देवताओं पर नहीं हैं,जितने मात्र पारद पर विश्व की लगभग सभी भाषाओं,सभी धर्मों और सभी संप्रदायों में लिखे गए हैं | यदि मैं स्वयं की बात कहूँ तो ५००० से ज्यादा ग्रन्थ और संचिकांये तो खुद मेरे पास हैं...जिनमे से बहुत से तो आज लुप्त प्रायः ही हैं | और ये सभी मुझे मेरे प्राणाधार की कृपा दृष्टि और मार्गदर्शन से प्राप्त हुए हैं |

   यदि रसविज्ञान को अंतिम तंत्र माना जाता है तो इसमें कोई अतिशियोक्ति नहीं है | ब्रह्माण्ड से सम्बंधित ऐसी कोई क्रिया नहीं है जिसका संपादन रस से ना होता हो | फिर वो चाहे सृजन हो,पालन हो या फिर संहार | विभिन्न तंत्र ग्रंथो और सूक्तियों में कूट भाषा में इस विज्ञानं के रहस्य लिखे गए हैं | आवशयकता है मात्र इस विज्ञान के रहस्य को समझकर आत्मसात करने की और तदुपरांत पूर्णत्व प्राप्त करने की | बहुधा हम कहते हैं की भगवान शिव के दर्शन हम कैसे करें या हम रसविज्ञान के माध्यम से कैसे सफलता की प्राप्ति करें | इसका उत्तर बहुत सरल सा है | हम सभी जानते हैं की भगवान शिव को भोले नाथ कहा जाता है अर्थात सहज सब कुछ देने में समर्थ,यही विवेचना तो रस अर्थात पारद की भी होती है | बस एक ही नियम हमें इन दोनों बातों के लिए ध्यान रखना पड़ता है |

भगवान शंकर की स्तुति में एक मंत्र प्रयुक्त होता है –

नमः शम्भवाय च | मयोभवाय च |नमः शंकराय च | मयस्कराय च....

क्या आपने कभी इसका मर्मार्थ समझा है ???

इसका अर्थ यही है की मुझे अर्थात पूर्णत्व को तभी पाया जा सकता है जब साधक शम्भवाय अर्थात प्रत्येक स्थिति में स्थिरप्रज्ञ हो...सम-विषम परिस्थितियों को समान भाव से निर्वाहित करे, विष और अमृत दोनों को एक भाव से ग्रहण करे तभी वह मयोभवाय अर्थात मुझे या इस ज्ञान को प्राप्त कर पाता है या उपलब्ध हो पाता है|

वैसे उपरोक्त मंत्र में पूर्ण शिवत्व को प्राप्त करने की प्रक्रिया ही छुपी हुयी है,किन्तु उसका अनावरण करना यहाँ हमारा उद्देश्य नहीं है | पारद के विभिन्न संस्कारों के द्वारा पारद का योग,विभिन्न वनस्पतियों,धातुओं,तत्वों,रत्नों और अवस्थाओं यथा..शीत,ताप,मृदु,कठोर से किया जाता है,और उसके परिणाम स्वरुप प्रत्येक संस्कार के बाद पारद की शक्ति और सामर्थ्यता में उत्तरोत्तर वृद्धि होती जाती है,जिसके उचित प्रयोग से साधक अपने मनोरथ को सिद्ध कर सकता है |

ऐसा नहीं है की पारद का बंधन कर उसके द्वारा गुटिका का निर्माण पारद के उच्च संस्कारों में होता है | अपितु प्रथम संस्कार से ही उसकी शक्ति का विकास होने लगता है और यदि इन प्रारंभिक संस्कारों से युक्त गुटिका का निर्माण कर उन पर तंत्र के प्रयोग किये जाए तो परिणाम अद्भुत होता है |

            १९८७ के मंत्र तंत्र विज्ञानं के जनवरी फरवरी के विशेषांक में एक ऐसी ही गुटिका का विवरण आया था जिसे नाथ योगी और रस सिद्ध “पारद पारस गुटिका” के नाम से जानते हैं | इसका निर्माण यदि पूर्ण तंत्रोक्त विधान से किया जाये तो ये गुटिका तंत्र जगत में क्रान्ति लाने में समर्थ है...हाँ महत्वपूर्ण तथ्य ये है की इस गुटिका से विभिन्न प्रकार के लाभ प्राप्त करने के लिए आपको साधना करनी पड़ेगी | ये कोई सामान्य गुटिका नहीं है अपितु विशेष क्रम से  पारद का शोधन कर और उसका पूर्ण प्रामाणिक विधानुसार संस्कार तंत्र पद्धति का आश्रय लेकर ही इसका निर्माण पूर्ण चेतना के साथ किया जाता है,तभी पारद की पूर्ण शक्ति का प्राकट्य होता है|

    सामान्य पारद गुटिकाओं को पारद पारस गुटिका नहीं समझना चाहिए | यहाँ पारद का अर्थ पारद ही समझा जाये कोई सीसा,जस्ता,रांगा नहीं | इसमें अशुद्ध पारद का प्रयोग हानि भी पहुंचा सकता है |

    सदगुरुदेव ने उस विशेषांक में उस गुटिका पर कई प्रयोग का वर्णन भी किया था,और स्वयं उन गुटिकाओं का निर्माण अपने हाथों से कर कर साधकों और शिष्यों को प्रदान भी किया था | प्रत्येक प्रयोग अपने आपमें अचरजकारी है यदि उसे पूर्णता के साथ संपन्न कर लिया जाये तो | उस काल के बाद ये गुटिका अप्राप्य ही रही है,तथा कोई इसे उपलब्ध नहीं करवा पाया था    अब कुछ संख्या में इसका निर्माण हमने किया है ऐसे कुल १०८ प्रयोग हैं | जिनका प्रयोग इसी गुटिका के द्वारा होता है | ये सभी प्रयोग सरल व सहज हैं,तथा इसमें मात्र माला के अतिरिक्त अन्य किसी विशिष्ट साधना सामग्री की कोई आवश्यकता नहीं होती है,तथा सभी प्रयोग स्वयं की सामर्थ्यता के अनुसार मात्र इसी एक गुटिका पर किये जा सकते हैं | इसका विसर्जन नहीं होता है और एक प्रयोग के बाद दूसरा प्रयोग भी इसी पर संपन्न किया जाता है | अन्य गुटिकाओं की तुलना में इसका निर्माण लागत मूल्य बहुत कम होता है |

यथा :-

धनदायक्षिणी साधन प्रयोग- धनदा यक्षिणी को पूर्ण अनुकूल और सिद्ध कर आर्थिक लाभ प्राप्ति हेतु |

संतान प्राप्ति प्रयोग-

चक्र जागरण प्रयोग

आत्मबल प्राप्ति प्रयोग

पौरुष प्राप्ति प्रयोग

शुन्य में से पदार्थ प्राप्ति हेतु

अदृश्य कारिणी विद्या सिद्धि हेतु

वायु गमन सिद्धि हेतु

अतुलनीय बल प्राप्ति हेतु

वशीकरण,सम्मोहन शक्ति हेतु

आत्मा आवाहन सिद्धि हेतु  

पराविज्ञान सिद्धि हेतु

ऐं बीज सिद्धि प्रयोग

अघोर विवाह बाधा निवारक प्रयोग

  ऊपर दिए गए प्रयोग मात्र कुछ नाम है,और इन सभी प्रयोगों के मंत्र और क्रियाएँ भिन्न भिन्न हैं और पूर्ण सफलता दायक भी | यदि साधक पूर्ण परिश्रम करे इस गुटिका को प्राप्त कर इसका प्रयोग करे तो निश्चय ही इस विद्या का वो पूर्ण लाभ उठा सकता है |  

****NPRU****      

7 comments:

Neeraj Kumar said...

bhai sahab is gutika ka nirman mulye kya hai aur kis prakar ye prapt ho sakti hai......

MUKESH SAXENA said...

parad paras gutika vastav mein adbhut hai,hum bhi jaanna chahenge ke iska nirmaan ki dhanrashi kitni hai?hum ise prapt karke prayog karna avashya chahenge. jai sadgurudev

rahul kolapkar said...

mujhe bhi atyanand hoga iski prapti karke kripa karke mujhe bhi iska mulya bataye. dhanyawad , jai gurudev

rahul kolapkar said...

mujhe bhi yah gutika prapt karni hai atah mulya avam details bheje. dhanyavad.

Pritam Chauhan said...

mere pass aisee he koi adbhut gutica hai par mujhe iska prayog pata nahi hai uska nam sayad hemgiri hai

Pritam Chauhan said...

mere pass aisee he koi adbhut gutica hai par mujhe iska prayog pata nahi hai uska nam sayad hemgiri hai

onlinesharesense said...

respected nikhiljipranam to you and koti koti pranam to ssrimaliji i read shrimalijis book on 1995 that time i was 18 yrs old used his given meditation and tratak and self hypnotisation . i also wrote a letter to him to rajasthan but no reply also i didnot know him as a great saint of this century at that time .by the way now am 36 yr old and while i had money i bought a parad gutika almost 5 yrs ago and i had seen your described result of immense strength of walking long distence coz that time i used to visit ma kali mandir (almost 2-3 saturday every month) which is 8 kilometers away from bustand i walked that distance almost 90% time at summer noon but belive me i never got tired and one thing also that parad gutika also changes color as per its touched matters colour .but after two yrs it began to damage upper layer of its body erased automaticaly so i left it to flowing river. so am now interested in chakra jagaran proyog and vaayugaman siddhi bu your said gutika.but how can i obtain that or canyou kindly provide me with that gutika and vayu gaman diksha?