Sign In

Tuesday, July 31, 2012

KUNDALINI RAHASYAM 12


कुण्डलिनी क्रम में यह पंचम चक्र है. विशुद्धचक्र अनाहत चक्र से ऊपर की और कंठ में स्थित है. इस चक्र को कंठपद्म भी कहा गया है. इस चक्र के १६ दल होते है. आधुनिक विज्ञान में इसे carotid plexus कहा गया है. इसके १६ दल १६ भाव को नियंत्रित करते है. यह चक्र को पदार्थो की विशुद्धता के लिए जाना जाता है इस लिए इसे विशुद्धि चक्र के नाम से भी जाना जाता है. सहस्त्रार से ज़रित अमृत नाभि तक पहोच जाता है लेकिन संग्रह न होने पर उसका व्यय हो जाता है. अगर इसको विशुद्ध चक्र के माध्यम से योग्य गति दे दी जाये तो व्यक्ति का मृत्यु पर विजय प्राप्त करना संभव हो जाता है लेकिन यह तभी संभव हो सकता है जब व्यक्ति का विशुद्ध चक्र पूर्ण रूप से खुल गया हो. मनुष्य शरीर में रोज ब्रम्ह मुहूर्त में सहस्त्रार चक्र से एक बूंद अमृत तत्व निकलता है इसी लिए ब्रम्हमुहूर्त को योगतांत्रिक साधनाओ में अत्यधिक महत्वपूर्ण समय माना गया है लेकिन यह अमृत तत्व का शरीर में योग्य संचार नहीं हो पता है. इस समय साधना करने पर व्यक्ति में इस तत्व का संचार होने लगता है. लेकिन इसका पूर्ण लाभ प्राप्त करने के लिए साधक का विशुद्ध चक्र जागृत होना आवश्यक है. इस प्रकार वह अमृत तत्व कुदरती रूप से नाभि में एकत्रित होने लगता है या फिर उसका कई प्रकार से संचार साधक के लिए संभव हो जाता है. इस महत्वपूर्ण चक्र के जागरण पर साधक विषपान कर उसके अंदर के विष तत्व को समाप्त कर सकता है तथा उस पर विष का कोई अशर नहीं होता. योग में इस स्थान को विमानों का स्थान भी कहा जाता है अर्थात व्यक्ति को विविध लोक में जाने का मार्ग भी यही से प्राप्त होता है. इसी विमान से सबंधित सिद्धांत को पश्चिमी देश astral plane कहते है.
इस चक्र का सबंध आकाशतत्व से है, फल स्वरुप वह आकाशतत्व के माध्यम से किसी भी लोक की कोई भी ध्वनि सुन सकता है तथा उन द्रश्यो को देख भी सकता है. एक प्रकार से व्यक्ति की सत्ता आकाश तत्व की तरह सभी जगह व्याप्त हो जाती है. ३६ शिव रुपी आकाशतत्व तथा उसको संचारित करने के लिए ३६ शक्ति तत्वों का केन्द्र विशुद्ध चक्र है.
विशुद्धचक्र का सबंध पंचम शरीर से है. साधक हंस शरीर से आगे परमहंस शरीर की प्राप्ति इस चक्र के पूर्ण विकास के बाद कर लेता है, फल स्वरुप वह जागृत अवस्था में भी अपने परमहंस शरीर को अलग कर के समाधी अवस्था को प्राप्त कर सकता है. समाधी की प्राप्ति के लिए उसे फिर आँखे बंद कर के बाहरी दुनिया से संपर्क सूत्रों को तोड़ने की आवश्यकता नहीं पड़ती.
आज के युग में हर कोई अपने नाम के आगे पीछे हंस या परमहंस शब्द को जोड़ देता है लेकिन ऐसा नहीं है. पहले के युग में साधूसाही के नियम अंतर्गत महाकुम्भ के समय गुरु अपने शिष्य को अपने सम्प्रदाय से सबंधित महामंडलेश्वर के सामने उपस्थित करते थे. उस समय उसके चक्रों की स्थिति को देखा जाता था और जब वह समाधी अवस्था में प्रवेश करता था तब उसकी पूर्ण रूप से पुष्टि करने के बाद उसे हंस अवस्था या परमहंस अवस्था को देख कर उसको यह पदवी दी जाती थी. परमहंस की पदवी मात्र उसी व्यक्ति को दी जाती थी जिसका विशुद्ध चक्र पूर्ण विकसित हो गया हो और उसकी कुण्डलिनी आज्ञा चक्र की तरफ गतिशील हो. और अगर कोई नियमों का उल्लंघन कर के अपने नाम के पीछे इन शब्दों का प्रयोग करता तो साधू समाज उसका बहिष्कार करता था. लेकिन आज की स्थिति पूर्ण रूप से बदल गई है.
पञ्चइन्द्रियों के अंतर्गत इस चक्र का सबंध कंठ तथा श्रवण क्षमता दोनों से है. इस चक्र का बीज मन्त्र है ‘हं. विशुद्ध चक्र के १६ दल में जो बीज (सभी स्वर) है वह है ‘अ’, ‘आ’, ‘इ’, ‘ई’, ‘उ’, ‘ऊ’, ‘ॠ’, ‘ऋ’, ‘’, ‘’, ‘ए’, ‘ऐ’, ‘ओ’, ‘औ’, ‘अं’, ‘अः’. 
-----
Vishuddh chakra
This is fifth chakra in kundalini sequence. Vishuddha chakra is situated in neck area upper side of anahata chakra. This chakra is thus also called as ‘Kantha Padma’ (lotus of the neck). In modern science this chakra is called as ‘carotid plexus’. 16 petals of this lotus control 16 emotions. This chakra is known for the purity of the elements thus this chakra is also termed as vishuddhi chakra (chakra of the complete purity). Nectar oozed from sahastrara reaches to the navel but because it does not remain stored there it goes wasted. If this nectar is given right direction through vishuddh chakra then it is easy to win the death even but this could become possible only when visuddha chakra is developed completely. In the human body, daily in the bramh muhurta time duration one drop of the nectar comes out and for this reason, in yoga tantric sadhana bramha muhurta is considered as very important time duration but proper flow of this nectar does not take place in the body. At this time duration if sadhana is done then proper flow starts being maintained. But to have maximum benefit of this, it is essential to have visuddha chakra activated. And this way, this element of the nectar starts being collected in navel region naturally or it could be modulated in many ways by sadhaka. When this important chakra is activated, then sadhak can have poison and can vanishes all the poisonous effects of the same and no poison can affect the sadhaka. In yoga, this place is also called as place of the Vimana. In the western countries, this concept is termed as ‘astral planes’.


This chakra is connected with element aether (sky) resulting power to hear any voice of the universe and to watch any scene of the universe with medium of the aether element. This way, persons power may spread everywhere the element aether is present. Vishuddha chakra is center of 36 aether elements in the form of shiva and for application of the same 36 aether elements in the form of the shakti.


Vishuddha chakra have relation with fifth body. When this chakra is fully developed than sadhaka may go ahead from hamsa body and achieves paramhamsa body, this results in the power of the Samadhi in the awaken state of main body by separating paramhamsa body. Then after one needs not to cut off from the outer world and close eyes to enter in Samadhi state.

In today’s time, one may attach label hamsa or paramhamsa before or after name by self but this is not real concept. Previously, under the rule of sadhu sahi, in MahaKumbha fair, guru used to present their disciples in front of the respective MahaMandaleshwar of the sect. at that time, inspection of the positions of the chakra awaking used to be done when sadhaka used to enter in the Samadhi state at that time after complete surety of the same only, that sadhaka used to be titled with Hamsa or ParamHamsa. Paramahamsa title used to be given to that person only whose visuddha chakra is completely developed and kundalini is moving ahead of the vishuddha chakra. And if one self uses this title by breaking this rule, than whole sadhu samaj or the ascetic society used to boycott that person. But today whole scene is completely changed.



This chakra is related with power of speaking and hearing senses among five basic senses. Beejamantra of this chakra is ‘ham’. Beeja [all vowels] in the sixteen petals of this chakras are A(), Aa(), i(), I (), u (), U(), r(), R(), l (), L(), a(), Ae(), o(), Au(), M (अं), h (अः) 


****NPRU****

 

 

Monday, July 30, 2012

SOME NECESSARY FACTS REGARDING YAKSHINI SADHNA PART 2(यक्षिणी साधना के परिपेक्ष में कुछ आवश्यक तथ्य २)


 
In last article we learnt about the Aakash element and its relation with other elements and what is its relation with sadhna. Definitely, Aakash element has a relationship with not one rather all. It may be Apsara Yakshini or some other God-Goddess. Yes, but the procedures related to each one are different. Here we will discuss regarding Yakshini sadhna.
First of all it is important to know that what the meaning of Mandal is?
Yantra and Mandal are two important parts of Tantric Padhati. A commoner may have some information about Yantras but very few persons know about Mandal Vidhaan. Yantra is one such geometrical shape upon energizing which it does the work of sending its mantric power to Isht or Abhisht or related God-Goddess. For example, when one sadhak does a prayog to get rid of enemy problem and he has got Shatru Gati Stambhan Yantra, then the power which carries out the work through Mantra’s energy and the procedure done on it, then this energy reaches the God/Goddess related to that power through yantra. Mandal means one such geometrical shape which is copy-image of Isht. Yantra transforms the energy and sends it to related God/Goddess, but Mandal is different from it.Isht is not present in front of sadhak then if sadhak creates its image in front of himself and after that sadhak do Pratishtha on it then that shape (symbolizing Isht) becomes Mandal which can do multiple jobs at one time or in other words Mandal can accomplish all tasks related to that Isht for which it is created. This is the normal difference. But more normal it seems, it is that much full of secrets. Some Mandals take few months and sometimes take few years. After this, many coming generation can take benefit from these Mandals. In some of Buddh Maths of Tibet, there are present many centuries old Mandals on which sadhna has been done from so many years that they are never needed to changed or disposed off. Definitely, this Vidya is one invaluable Vidya and if looked from importance point of view, then Mandal Yantra can be only called rare. In the times of Sadgurudev, such rare Mandal Yantra were in vogue in which sthapan of so many God and Goddess was done by Sadgurudev himself and one such Mandal Yantra consist of so many yantra within it.Many times, Sadgurudev created one Mandal from yantra shape related to 7-8 God-Goddess and gave it to sadhak in form of Yantras. The depth of these lines can be understood by only those who have some knowledge about yantras and who have seen the Pratishtha being done on them or done Pratishtha on any yantra anytime. I have seen such rare yantras with some old Guru Brothers and they also say that attainment of such rare Mandal is definitely attainment of success in all respects. This demonstrates the height of Sadgurudev’s knowledge regarding Yantras and Mandals and before each prayog; he used to tell about significance of yantra, its related procedure and Pratishtha procedure to sadhaks.
There are so many differences and sub-differences in relation to Mandal Yantras. Now, it can be understood like this that how is it possible for a normal person that he creates one Mandal in months or years and after that do sadhna on it.Therefore, there were some secret procedures in vogue relating to Mandals and Yantras by which person can create them in lesser time and get the benefit from it.
Now we come back to Aakash element. In last article we learnt that if we manage to establish contact with Aakash element then it is definitely possible that if we call then that voice reach the Isht because Aakash element is present everywhere. But if Aakash element is Omni-present then how to concentrate it at one place? How can it be made possible that we only have access to Aakash element and attain the related benefits
As it is said about Mandal Yantras that they are the copy-image of Isht. If such geometrical shape is created and Pratishtha of related God/Goddess is done on it and their Praan are connected then that Mandal becomes the mirror image of Isht. And after that, benefits can be taken from all procedures related to it.Among sadhaks, many vidhis relating to Mandals are present but Vidhaan of Aakash element’s Mandal has remained hidden. If Mandal Yantra of Aakash element is created then it is possible. If sadhak gets the shape of Mandal related to Aakash element also but if it does not have Vidhaan along with it, then it is merely a geometrical shape. There are many differences and sub-differences within it.
In other words, one thing can be understood here that there are many vidhis of Aakash Mandal. But there should be one Vidhaan which is in accordance with time and Mandal can be made in less time.
Now since Aakash element is Omni-present and we have to get the benefit related to Yakshini from it then how it should be written and which mantra should be written. And Vidhaan should be such that even normal sadhak can do it.How is it possible?
Yes this is possible. Sadhak can create such Mandal in one night and also do Pratishtha related to Yakshini so that it can work especially for Yakshini category. We have made the switch and definitely this switch is capable of switching on any fan or bulb or other thing but we have to switch on the fan using it so we have to connect it to wires of fan.
In the similar manner, we have to create Aakash Mandal and make it suitable for Yakshini Sadhna. How it will be done?
This can be done by making basic pillar of Mandal, one beej mantra and after writing it, make fitting Mandal and chanting Pratishtha Yukt Sampark Mantra. But such Vidhaan will take lot of time? No, definitely not.
Sadhak has to make geometrical shape and chant 11 rounds then full Vidhaan is completed. And it does not even take more than one hour for sadhak to do it.
 ============================================
पिछले लेख में हमने जाना की किस प्रकार आकाशतत्व तथा दूसरे तत्वों में सबंध है तथा आकाशतत्व का साधना से क्या सबंध है. निश्चित रूप से आकाशतत्व का सबंध किसी एक साध्य से नहीं वरन सभी साध्य से है. चाहे वह अप्सरा यक्षिणी हो या कोई भी देवी देवता हो. हाँ लेकिन सभी से सबंधित प्रक्रियाए अलग अलग है. यहाँ पर हम यक्षिणी साधना के बारे में चर्चा करेंगे.

सर्व प्रथम हमें ये जानना ज़रुरी है की मंडल का तात्पर्य क्या है.??
 यन्त्र तथा मंडल तांत्रिक पद्धति के दो महत्वपूर्ण अंग है. सामान्यजन को यंत्रो के बारे में जानकारी भले ही हो लेकिन मंडल विधान की जानकारी बहोत ही कम प्राप्त होती है. यन्त्र एक एसी आकृति होती है जिनमे प्रतिष्ठा करने पर वह आपकी मांत्रिक उर्जा को इष्ट तक या अभीष्ट तक पहोचाने का कार्य करती है या सबंधित देवी देवता तक पहोचने का कार्य करती है. उदहारण के लिए एक साधक शत्रु समस्या से मुक्ति के लिए प्रयोग करता है और उसके सामने शत्रु गति स्तम्भन यन्त्र है तो उसके द्वारा की गयी प्रक्रिया तथा मंत्रो की उर्जा से कार्य सम्पादित करने के लिए जो शक्ति है, जो उस कार्य से सबंधित देवी या देवता या इष्ट है उन तक यह उर्जा पहोचाने का कार्य यंत्रो के द्वारा होता है. मंडल का तात्पर्य एसी आकृति है जो की इष्ट की प्रतिकृति हो. यन्त्र उर्जा को रूपांतरित कर के उसे सबंधित देवी या देवता तक पहोचाना है जब की मंडल इससे भिन्न है. इष्ट साधको के सामने प्रत्यक्ष नहीं है तो साधक उनकी प्रतिकृति को ही अपने सामने निर्माण कर ले और इसके बाद साधक उसमे प्रतिष्ठा कर दे तो वह इष्ट रूप आकृति मंडल बन जाती है जो की एक साथ अनेक कार्य कर सकती है या दूसरे शब्दों में मंडल उस इष्ट से सबंधित सभी कार्यों को सम्प्पन कर सकता है जिस के लिए उसका निर्माण हुआ हो. यह सामन्य भेद है. लेकिन यह जितना सामन्य दिखता है उतना ही गुढ़ है और उतना ही रहस्य से पूर्ण है. कई मंडलों को बनाने में कई महीने तथा कई बार कई साल लग जाते है. इसके बाद इन मंडलों का लाभ कई पीढि उठा सकती है. तिब्बत के कई बौद्ध मठो में कई सदियों पुराने मंडलयन्त्र विद्यमान है जिन पर इतने साले से साधनाए होती आई है, उसे बदलने की या विसर्जित करने की आवश्यकता नहीं होती. निश्चय ही यह विद्या एक अमूल्य विद्या है तथा इनकी महत्वपूर्णता को द्रष्टि में रखे तो  मंडलयंत्र दुर्लभ ही कहे जा सकते है. सदगुरुदेव के समय में ऐसे दुर्लभ मंडलयन्त्र प्रचलन में थे जिनमे वह एक साथ कई देवी तथा देवता का स्थापन सदगुरुदेव खुद ही सम्प्प्न करते थे तथा एक ही ऐसे मंडलयंत्र में कई यन्त्र एक साथ होते थे. कई बार सदगुरुदेव ने एक साथ ७ – ८ देवी देवताओ से सबंधित यन्त्र आकृति का एक पूर्ण मंडल बना कर उसे यंत्रो के स्वरुप में साधको को प्रदान किया है. इन पंक्तियों की गंभीरता वही समझ सकता है जो ऐसे यंत्रो के सबंध में ज्ञान रखता हो तथा जिन्होंने इनकी प्रतिष्ठा होते हुवे देखि हो या खुद कभी किसी यन्त्र की प्रतिष्ठा की हो. मेने कुछ पुराने गुरुभाइयो के पास ऐसे दुर्लभ यंत्रो को देखा है तथा उनका कथन भी यही है की ऐसे दुर्लभ मंडल की प्राप्ति निश्चितरूप से सर्व सफलता की प्राप्ति है. इससे सदगुरुदेव के यंत्रो तथा मंडलों के सबंध में उनके ज्ञान की विशालता का परिचय होता है तथा हर प्रयोग से पहले वह यंत्रो की महत्ता उनसे सबंधित प्रक्रिया तथा प्रतिष्ठा क्रम के बारे में साधको को बताते थे.


मंडलयंत्रो के सन्दर्भ में कितने ही भेद तथा उपभेद है. अब इसको इस प्रकार से समझा जाए की एक सामान्य व्यक्ति के लिए यह कैसे संभव हो की वह महीनो तक या सालो तक एक मंडल बनाये तथा उसके बाद उस पर साधना करे. इसी लिए मंडलों तथा यंत्रो से सबंधित भी कई गुप्त विधान प्रचलन में रहे जिसके माध्यम से व्यक्ति इनका निर्माण कुछ समय में ही कर सकता है तथा उसका लाभ प्राप्त कर सकता है.

अब हम वापस बात करते है आकाशतत्व की. पिछले लेख में हमने जाना की अगर हमारा आकाशतत्व से संपर्क हो जाए तो निश्चित रूप से यह संभव है की हम आवाज़ दे तो वह सबंधित इष्ट तक पहोच जाए क्यों की आकाशतत्व सर्व व्यापी है. लेकिन आकाशतत्व तो सर्व व्यापी है तो उसे किसी एक जगह केसे एकत्रित किया जाए? ऐसा केसे संभव हो सकता है की हम आकाश तत्व को ही अपने सामने रखे तथा उसके सन्दर्भ लाभों की प्राप्ति कर सके.

जेसे की मंडलयंत्रो के बारे में कहा गया है की वे इष्ट की प्रतिकृति होते है. अगर एसी आकृति का निर्माण कर के उसमे सबंधित देवी देवता या साध्य की प्रतिष्ठा कर दी जाये तथा उनके प्राणों को जोड़ दिया जाये तो वह मंडल इष्ट की प्रतिकृति बन जाता है. तथा उसके बाद उससे सबंधित सभी प्रक्रियाओ का लाभ प्राप्त किया जा सकता है. साधको के मध्य पञ्चतत्वों के मंडल की कई विधि प्रचलित है. लेकिन आकाशतत्व के मंडल का विधान गुप्त रहा है. अगर आकाशतत्व का ही मंडलयन्त्र का निर्माण कर लिया जाये तो यह संभव हो सकता है. साधक को आकाशतत्व से सबंधित मंडल की आकृति मिल भी जाए लेकिन उसका विधान नहीं हो तो वह मात्र एक आकृति ही है. इसमें भी कई भेद तथा उपभेद है.

अर्थात यहाँ पर यह बात समजी जा सकती है

की आकाशमंडल की कई विधियां है जिनमे से एक ऐसा विधान हो जो की समय अनुरूप हो तथा कम समय में मंडल का निर्माण हो जाये.

अब बात यह आती है की आकाशमंडल चूँकि सर्व व्यापी है तथा हमें उस मंडल से यक्षिणी  से सबंधित लाभ प्राप्त करना है तो उसका अंकन केसे किया जाये तथा उसमे कोन से मंत्र का अंकन किया जाए. तथा इसका विधान ऐसा हो की सामान्य साधक भी सम्प्पन कर सके. क्या ऐसा संभव है?

हाँ ऐसा संभव है. साधक ऐसे मंडल का निर्माण कर एक ही रात्रि में उसमे यक्षिणी से सबंधित प्रतिष्ठा भी कर सकता है क्यों की यक्षिणी वर्ग के लिए वह विशेष रूप से कार्यशील हो सके. हमने स्विच बना ली है और निश्चित रूप से यह स्विच किसी भी पंखे को या बल्ब को या किसी भी चीज़ को चालू करने में सक्षम है लेकिन हमें तो इससे पंखा चलाना है तो उसे पंखे के साथ तारों से जोड़ना पड़ेगा.

ठीक उसी तरह आकाशमंडल का निर्माण करना है तो इसके साथ ही साथ उसे यक्षिणी साधना के प्रयुक्त करना है. अब वह किस तरह से होगा?

यह होता है मंडल का आधार स्तंभ एक बीज मंत्र बना कर और उसको अंकित कर उसके अनुरूप मंडल बनाया जाए तथा  उसमे प्रतिष्ठा युक्त संपर्क मंत्र का जाप करने से. लेकिन ऐसा विधान करने में तो बहोत समय लग जायेगा? बिलकुल नहीं.

यह गुप्त प्रक्रिया को करने में साधक को आकृति बना कर मात्र ११ माला जाप करे तो पूर्ण विधान सम्प्प्न हो जाता है. और साधक को इसमें सायद एक घंटे से ज्यादा समय नहीं लगता.

****RAGHUNATH NIKHIL****

****NPRU****

Thursday, July 26, 2012

SOME FACTS RELATED TO ONE DAY SEMINAR ON APSARA YAKSHINI…PART 5 (अप्सरा यक्षिणी एक दिवसीय सेमीनार के बारे मे कुछ तथ्य ..भाग -5 )



This very rare article for you all along with the title………You all will understand through this article that in reality, doing Yakshini Sadhna and getting success is not easy and is not the thing to be taken lightly. Through this very rare article, you will be able to understand that even creating rosary and yantra is so much cumbersome…..and the list which I put forward in front of you yesterday…..Now after reading this article, you can understand how many important facts will be revealed.
Because few people can make a joke out of this thing that all these procedure are fictitious and is a novel way for earning money……You all should read this article and experience it yourself that how many procedure are…….essential in one Yakshini Sadhna……and it is now up to you that still you make joke out of it and waste this opportunity….
Please note that this article was published in Mantra Tantra Yantra Magazine of 1985 when Sadgurudev was there in his world form….After this only Sadgurudev organized Yakshini Sadhna Shivir…
You all brothers and sisters who are participating in this seminar or those who are making up their mind to participate or those who are trying to make joke out of it…..those all….understand the importance of coming seminar. For all of those….now this rare article which came in that magazine…
------------------------------------------------------------------------------
Now This Rare Article for You
-----------------------------------------------------------------------------------
Kaun Kehta Hain Ki Yakshini Siddh Nahin Hoti……………………Ramouli Baba
Devta, Gandharv and Kinnar are of higher—order category than human beings, in the similar manner Yaksha category is also parallel to Devta. Our Puraans and religious scriptures are full of heir respect, their reverential praise and their prayer. Though there are hundreds of Yakshini sadhnas in Indian Mantra scriptures but Dhanda Yakshini sadhna is prominent among them.
“This is Saumya (peaceful), easy and virtuous sadhna (Satvik in Hindi).Those sadhak who do the upasana of Gayatri, whose life has plenty of righteousness and morality, they should do Yakshini Sadhna definitely in their life”. When these lines were said by Gurudev to me then all my hesitation vanished and in spite of being the Gayatri sadhak, I got prepared to do the sadhna of Dhanda Yakshini with full ability.
There is no doubt that Yakshini sadhna are difficult and complex. Without capable and suitable Guru, this sadhna cannot be done. Because on one hand this complete sadhna is mantric then on the other hand this sadhna is practical too. Therefore in this sadhna there is mutual strong relation between Mantra and Procedure.
Sadhna Vidhi of Dhanda Yakshini is published in so many scriptures. The description and yantra of Dhanda Yakshini which has been given in third part of Mantra Maharnav does not prove to be authentic because its base is taken as Shunya (Vacuum) but the base of Dhanda Yakshini should be taken from Bindu. It has been clearly written on fourth layer of scripture named “Rahasaya Sadhan”, uttered by Lord Shiva that outer portion of Dhanda Yakshini yantra should be of 10 layers, and then only Dhanda Yakshini yantra is formed.
Revered Gurudev after describing the Dhanda Yakshini Sadhna mentioned in nearly 8-10 scriptures told that all these descriptions are incomplete and not authentic. From practical point of view, doing sadhna in such way does not yield success. After telling this, he made me do the Dhanda Yakshini Sadhna in completely Novel Vidhi by which I got complete success in my first attempt.
Sadhna Time::
This sadhna can be done only once in a year. The time is eight days before the Holi i.e. it should be done in Holi Ashtak.In this Prayog, starting from Ashtmi Yakshini yantra having both downward-facing triangle and upward-facing triangle is created in the night of Deepawali. And this yantra having 88 Aavritis is created only on Deepawali’s night by Dhanda Panch Dashi Mantra. Please bear in mind that central point of Yantra should be formed on midnight of Deepawali i.e. Amavasya. And it should be energized by using Dhanda Panch Dashi mantra in lom and vilom sequence. After that Yantra should be energized by doing 88 Aavriti Yukt Sanjeevini Mantra Prayog on it using a silk thread so that relation can be formed between Anang Bindu and Rati Yoni and Dhanda Yakshini form can be formed. And on such an accomplished yantra, prayog is done on the occasion of Holi.
On the first day yantra is energized along with Guru Poojan Vidhi. Side by side, coordination is established with sadhak’s mind. For this assistance is taken of Kuber Yakshini based beej. As it happens, full coordination of sadhak is established with Dhanda Yakshini.
In this, aasan Vidhaan is worth paying attention. The day which falls on eighth day of Shukl paksha of Phalgun month, aasan of that planet should be spread by sadhak. On Sunday pink, Monday white, Tuesday Red, Wednesday green, Thursday Yellow, Friday white and on Saturday black colored aasan are spread and sadhna is done.
In this Hakik rosary is used. But there is special way for it.On midnight of Deepawali Night, make a thread by giving 88 rounds to silky or cotton thread and make a knot after threading Sumeru.At the time of making knot, it should be formed using mutual Lom Vilom of Maha Kaali, Mahalakshmi, Mahasaraswati, Dhwani and Adhwani ,Bindu and Yoni.On the midnight of second day, do the similar procedure on second Hakik stone. In this way daily one bead is threaded and above it one joint is formed. In this way, one rosary is prepared up till Holi. Then only Mantra becomes amazing and full of Praan. This rosary can be prepared by sadhak or Guru Brother.
Then on the night of eighth day of Shukl Paksha of Phalgun Month, I gained consciousness of Praan from this prepared Rosary and established three Maha Shaktis in three Aavritis of body. I inculcated Dhanda in my voice, done Pratishtha of Anang and Rati in body, sat on aasan, ignited lamp and started chanting the mantra using the way told by Gurudev.
In it, every day separate-2 procedure is carried out. On first day, Guru Poojan and yantra sthapan is done on body then on second day Swarnakarshak Bhairav Mantra is blossomed. On third day, Dhanda Panch Dashi Mantra is activated. On fourth day, Dhanda Yakshini Mantra is energized and done mantra samputit. On fifth day Bhairav Mantra Jap on Bhairav Gutika and on sixth day, Bhairavi Dhanda is accomplished on Bhairavi Gutika. On seventh day related Jap and Poorn Aahuti is done.
All these mantras have remained hidden and have been attained only by mouth of Guru. After doing this, the experience which an ignorant sadhak like me has had, is altogether a different story. I have experienced that if any sadhna is done with full authenticity then definitely one gets the results.
I have got hundreds of scriptures related to Mantra and Yantra and nearly all the scriptures have included within it Dhanda Yakshini Sadhna but the type of Prayogs given in all these scriptures are incomplete. I have not experienced authenticity. Compared to this, the type of mantra Jap which was told by Revered Gurudev, doing like that made me accomplish sadhna and I can prove this fact with challenge that if any sadhna is done with full authenticity then definitely one gets the results.
This sadhna ends on the day of Holi.88 lotus seeds are put in the ignited holi one by one while chanting beej mantra of Dhanda Yakshini and in this way Mantra Jap is finished.
And after doing like this, on that night Yakshini manifested in very Saumya and sweet way. After that the speed at which I have progressed in Materialistic and Spiritual and sadhna field is mainly due to this sadhna.
I was told to write few lines on Dhanda Yakshini sadhna in Mantra Tantra Yantra Magazine but this subject is hidden and can only be told by Guru. Therefore, I have explained the sadhna Vidhi to the extent I Could have done. I feel the need that all the scriptures published which are related to Mantra and sadhna should be edited again by very capable scholar. I challenge that anyone can see Dhanda accomplished by me.For amazing success in money, financial gains, Prosperity and all sadhnas of future, this sadhna is basic and important sadhna.
                                                                                                 With Thanks…..Mantra Tantra Yantra Vigyan …April 1985
So my friends, you all can understand by this amazing article that …..Yakshini sadhna is a very deep subject…..and now it is up to you that you understand this opportunity….
Smile

==========================================
यह  अति दुर्लभ लेख  आपके लिए शीर्षक सहित  .....आप सभी इस लेख के  माध्यम से समझ सकेंगे की सच मे  यक्षिणी साधना करना और उसमे सफल होना आसान या मजाक नही  हैं. इस अति दुर्लभ लेख के  माध्यम से आप समझ सकेंगे .की यहाँ तक यन्त्र,माला का निर्माण भी कितना कठिन हैं ....और जो मैंने  कल  आपको एक लिस्ट आपके सामने रखी ...अब आप इस लेख  के पढ़ने के बाद  आप समझ सकते हैं की कितने महत्वपूर्ण ..तथ्य आपके सामने आयेंगे .
क्योंकि कतिपय लोग इस बात  का माखौल  भी उड़ा सकते हैं  की यह सारी क्रियाए  तो  मन गढंत हैं और धन कमाने के लिए ..एक नया तरिका  हैं तो आप सभी इस लेख को पढ़े  और स्वयम अनुभव करे की कितनी क्रियाए  ...आवशयक  होती हैं  एक यक्षिणी  साधना मे ...और अब आप पर हैं की अभी भी माखौल  उडाये  और इस अवसर को हाथ से जाने दे ..
ध्यान रखे यह  लेख जब सद्गुरु भौतिक लीला काल मे रहे  तब  अप्रेल १९८५ मे मंत्र तंत्र यन्त्र पत्रिका मे प्रकाशित हुआ .... इसके बाद हीसदगुरुदेव   जी के द्वारा ... यक्षिणी साधना शिविर का  आयोजन हुआ ...
आप सभी भाई बहिन जो सेमीनार मे भाग ले रहे  हैं या   जो भाग लेने का मन बना रहे हैं  वह..या वहभी जो माखौल उड़ने की कोशिश मे हैं ..वह सभी .आने वाली सेमीनार का  अर्थ समझे .उन सभी के सामने .अब यह दुर्लभ  लेख .जो उस पत्रिका मे  आया  रहा ......
====================================
अब यह दुर्लभ लेख आपके लिए
======================================
कौन कहता  हैं की  यक्षिणी सिद्ध नही होती ...........रमौली बाबा 

देवता गन्धर्व  किनार  मनुष्य  से ऊँचे  स्तर के वर्ग   हैं , इसी प्रकार  यक्ष भी  देवताओं के समकक्ष  वर्ग के  हैं , जिनका सम्मान  जिनकी स्तुति  और जिनकी अभ्यर्थना  हमारे पुराणों  एवं धार्मिक ग्रंथो मे  भरी हुयी हैं .  यूँ तो भारतीय मंत्र ग्रंथो मे  सैकडो   यक्षिणी   साधनाए   हैं ,परन्तु  धनदा  यक्षिणी  साधना  इससमे महत्वपूर्ण  एवं प्रमुख हैं .
“यह सौम्य और सरल सात्विक साधना   हैं  जो साधक गायत्री का उपासक हैं ,जिसके जीवन मे  सदाचार  और नैतिकता का बाहुल्य हैं   उसे अपने जीबन मे यक्षिणी साधना  अवश्य करना चहिये “ ये पंक्तिया  जब   गुरू देव ने  मुझसे कहीं   तो मेरी सारी हिचकिचाहट  दूर  हो गयी  और गायत्री का उपासक  होते हुये भी.मैं पूरी क्षमता के साथ धनदा यक्षिणी की साधना करने के लिए  तैयार  हो गया .
इसमें  कोइ दो राय नही  की यक्षिणी साधना  जटिल और पेचीदा  होती हैं  बिना समर्थ और योग्य गुरू के यह साधना  सम्पन्न नही हो सकती हैं . क्योंकि एक तरफ यह सारी साधना  जहाँ एक तरफ मंत्रात्मक हैं  वही दूसरी  ओर क्रियात्मक भी  इसलिए इस साधना  मे मंत्र और क्रिया का  परस्पर घनिष्ठ सबंध हैं .
यो तो धनदा  यक्षिणी की साधना  विधि कई ग्रंथो मे  प्रकाशित  हैं . मंत्र महार्णव  के तीसरे खंड मे जो  धनदा  यक्षिणी का विबरण और यन्त्र दिया हैं  वह प्रामाणिक नही ठहरता  हैं  क्योंकि उसका  आधार  शून्य से हैं . जबकि धनदा यक्षिणी का आधार  बिंदु से  होना चहिये . शिव् प्रोक्त ‘रहस्य साधन “ नामक ग्रन्थ के  चौथे पटल मे  स्पस्ट लिखा हैं की  धनदा यक्षिणी  यन्त्र के बाहिर्बाग  दस पत्रात्मक  होना चाहिए , तभी धनदा यक्षिणी   यन्त्र निर्मित होता हैं .
पूज्य गुरुदेव जी ने लगभग  आठ दस ग्रंथो मे उल्लेखित  धनदा  यक्षिणी  साधना  का विवरण देने के बाद  बताया की  ये सारे  वर्णन विवरण  अधूरे और अप्रामाणिक हैं .व्यवहारिक दृष्टी से  इस प्रकार साधना  करने  से सफलता  मिल नही पाती हैं . ऐसा बताकर उन्होंने  सर्वथा  नवीन विधि केद्वारा  धनदा यक्षिणी साधना  सम्पन्न करवाई  जिससे मुझे पहली बार मे ही पूर्ण सफलता  मिल गयी .
साधना  समय ::
वर्ष मे  केबल एक  ही बार इस साधना को समपन्न  किया जा सकता हैं. यह समय होली सेआठ   दिन पहले  मतलब  होलाष्टक मे  ही यह साधना समपन्न   होना चहिये . अष्टमी से प्रारंभ होने  वाले इस प्रयोग मे  अधोमुखी और उर्ध्व मुक्षी त्रिकोण से युक्त  यक्षिणी यन्त्र  का निर्माण  दीपावली की रात्रि को किया  जाता  हैं . और दीपावली की रात को ही  धनदा पञ्च दशी मंत्र से ८८  आवृति युक्त  इस यन्त्र  का निर्माण किया जाता  हैं  इस बात का ध्यान रहे की यंत्र का  मध्य बिंदु  दीपावली  की रात्रि  अर्थात अमम्व्स्य की अर्ध रात्रि की निर्मित होना चहिये . और धनदा पंचदशी  से लोम बिलोम  मंत्रा से सम्पुटित   हो कर प्राण प्रतिष्ठा  युक्त होना चाहिए . तत्पश्चात रेशम के धागे  से  ८८ आवृति युक्त  संजीवनी मंत्र  प्रयोग  यंत्र पर  करते हुये  करते हुये  उसे प्राण चैतन्य   करना चहिये  जिस् से की  की अनग  बिंदु और रति  योनी का सबंध  बन सके  और धनद यक्षिणी का   रूप निर्मित हो सके . और ऐसे ही सिद्ध यन्त्र पर होली के अवसर पर प्रयोग किया जा सकता  हैं .
प्रथम  दिन गुरू पूजन विधि के साथ कर   यंत्र को प्राण चैतन्य  किया जाता हैं . साथ ही साधक मे मनस   से  सामंजस्य  स्थापित किया जाता हैं . इसमें कुबेर यक्षिणी आधार बीज  का सहारा लिया जाता हैं . ऐसा होने   पर धनदा यक्षिणी का साधक से पूर्ण  तादाम्य    स्थापित  हो जाता  हैं .
इसमें  आसन का विधान ध्यान देने  योग्य हैं .फाल्गुल शुक्ल अष्टमी को  जो वार  हो उसी ग्रह का आसन साधक को विछाना  चाहिए . रवि को गुलाबी , सोमवार को सफ़ेद , मगंवार को  लाल ,बुध को हरा ,बृहस्पति की पीला , शुक्र  की स्वेत तथा  शनिवार को काले रंग  का  आसन  विछा कर  साधना समपन्न की जाती  हैं ..
इसमें हकिक माला का प्रयोग किया जाता हैं .परन्तु इसका भी एक विशेष तरीका  हैं  दीपावली की मध्य रात्रि को रेशम या सूती धागे की  ८८ आवृति लेकर उसका धागा बनाये  और सुमेरु पिरोकर  गाँठ लगाये ,गाठ लगते समय महाकाली महालक्ष्मी  महासरस्वती का परस्पर  लोम विलोम,ध्वनि अध्वानी, बिंदु  और्  योनी के शब्द सामंजस्य करते हुये गाठ लगा दें, फिर  दूसरे दिन् मध्य  रात्रि को दूसरा  हकिक पत्थर इसी प्रकार कि क्रिया करते हुये ,इसतरह नित्य एक मनका पिरोया जाता  हैं औरउसके  ऊपर एक गाठ लगाई जाती हैं . इस तरह यह माला   होली तक जा कर तैयार  हो  पाती हैं .तभी इस माला मे आश्चर्य जनकता  और प्राणवत्ता आ जाती हैं . यह माला साधक या गुरू भाई तैयार् कर सकते हैं .
  फिर फाल्गुन  शुक्ल अष्टमी  के दिन मैंने  रात्रि को इसी प्रकार  तैयार की हुयी  माला से प्राण चैतन्यता प्राप्त की और शारीर की  तीनोआवृतियों  मे तीनो महाशाक्तियों की स्थापना  की .वाणी मे धनदा  का समावेश किया .शारीर मे अनंग  और रति की प्रतिष्ठा करते   हुये आसन पर  बैठ कर  दीपक प्रज्ज्वलित कर  गुरुदेव  के बताए  हुये तरीके  से मंत्र जप प्रारंभ किया .
इसमें प्रत्येक दिन  अलग अलग विधान  संपादित किया  जाता हैं .प्रथम   दिन शरीर मे  गुरू पूजन और यंत्र स्थापन किया  जाता हैं  तो दूसरेदिन  स्वर्णा कर्षणभैरव मंत्र को प्रस्फुटित किया  जाता  हैं .तीसरे दिन धनदा पंचदशी मंत्र की जागृति की जाती  हैं .चौथे दिन धनदा  यक्षिणी यन्त्र चैतन्य  और मंत्र सम्पुटित किया जाता   हैं .पाचवे दिन भैरब  गुटिका पर  भैरव  मंत्र जप  तथा  छठे दिन भैरवी  गुटिका  पर   भैरवी  धनदा  को सिद्ध किया  जाता हैं .सातवे दिन  सबंधित  जप और पुर्णाहुति  समपन्न की जाती   हैं .
ये सारेमंत्र गोपनीय और गुरू मुख से  ही  प्राप्त  रहे हैं .ऐसा करने पर मुझ जैसे  अनाडी  साधक को  जो अनुभव  हुये हैं .वे अपने आप मे  एक अलग   ही कहानी हैं .मै अनुभव  करता हूँ की यदि कोई भी साधना  पूर्ण प्रमाणिकता  के साथ  संपन्न की जाए   तो निश्चय की अनुकूलता  प्राप्त होती हैं .
मेरे पास तंत्र और् मंत्र से सबंधित सैकडो ग्रन्थ  हैं ,और लगभग सभी ग्रंथो मे धनदा  यक्षिणी  साधना  का समावेश  किया  हैं परन्तु  इन सारे ग्रंथो मे जिस  प्रकार का  प्रयोग   दिया   हैं.वे अपूर्ण हैं . उनमे प्रमाणिकता अनुभव नही हुयी . इसकी अपेक्षा  पूज्य गुरू देव ने मुझे  जो   विधि मंत्र जप बताया  उस प्रकार से  करने पर प्रत्यक्ष साधना   सिद्ध हुयी .और मैं चैलेंज  के साथ   आज इस बात को सिद्ध  करसकता  हूँ.यदि पूर्ण प्रामाणिकता के साथ साधना की जाए  तो  निश्चय  ही सफलता प्राप्त होती हैं .
इस साधना की समाप्ति  होली के दिन होती हैं .धनदा यक्षिणी के बीज मन्त्र जप से ८८ कमल बीजो को जहाँ होली प्रज्जलित   होती हैं  उसी होली मे उन कमल बीजो  को एक एक करके डाला जाता  हैं  और मंत्र जप समपन्न होता   होता  हैं .
और ऐसा करने  पर उसी  रात मे अत्यंत  हो सौम्य  और मधुर रूप मे  यक्षिणी प्रत्यक्ष   हुयी इसके बाद आज तक मैं  भौतिक और आध्यात्मिक   योग एवं साधना  क्षेत्रमे  जिस गति से आगे बढ़ा हूँ . और सफलता पायी हैं . वह सब कुछ इस  साधना की बदौलत   ही सम्पन्न   हुयी हैं .

 मुझे मंत्र तंत्र यन्त्र विज्ञानं पत्रिका ने धनदा यक्षिणी साधना  पर कुछ पंक्तिया लिखने को कहा  था  परन्तु यह विषय  गोपनीय  और   गुरू मुख गम्य  हैं अतः जितना भी स्पस्ट कर सकता   था  मैंने इस लेख मे साधना विधि को स्पस्ट किया ,मैं ऐसा  आवश्यकता अनुभव करता हूँ के मंत्र और साधनाओ से सबंधित जितने भी ग्रथ प्रकाशित हैं उनका अत्यन्त  ही योग्य विद्वान से  पुनः संपादन होना चहिये ,मैं चेलेंज के  साथ स्पस्ट करता हूँ की कोई भी   मेरे द्वारा  संपादित धनदा को स्पस्ट देख सकता  हैं . आर्थिक वैभव  धन यश प्रतिष्ठा एवं आगे की समस्त साधनाओ मे अद्वितीय सफलता के लिए यह आधरभूत और महत्वपूर्ण साधना   हैं .
                                                            साभार सहित ..मंत्र तंत्र यन्त्र विज्ञानं ..अप्रेल 1985
तो मेरे मित्रो  इस अद्भुत लेख  से आप समझ सकते  हैं की ..यक्षिणी   अप्सरा  साधना  बहुत गभीरता  का विषय   हैं ..और   अब आप पर  हैं की  आप  इस अवसर   को समझे ...
Smile
निखिल प्रणाम
अनु निखिल
****NPRU****